रामायण, महाभारत, गीता, वेद तथा पुराण की कथाएं

तिरुपति बालाजी का रहस्य

2,560

भारत में कई ऐसे मंदिर हैं, जहां हमेशा दर्शन करने वालों का तांता लगा रहता है। इन्हीं मंदिरों में शुमार है आंध्र प्रदेश के तिरूपति बालाजी का मंदिर। भगवान तिरूपति बालाजी की मान्याता इतनी है कि इनके मंदिर में फिल्मी सितारों से लेकर राजनेता आदि सभी लोग दर्शन करने आते हैं। बता दें कि भगवान तिरूपति बालाजी इस मंदिर में अपनी पत्नी के साथ विराजमान हैं। आइए इस मंदिर से जुड़ी कुछ खास बातें जानते हैं।

इस मंदिर के विषय में आपको थोड़ी बहुत जानकारी दे दूं ,कि यह भारत के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है तिरुपति बालाजी का मंदिर आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले में स्थित है। इस मंदिर में विराजमान भगवान वेंकटेश्‍वर स्‍वामी जी की मूर्ति है जिसे भगवान विष्णु का अवतार भी माना जाता है।

Tirupati Swami

तिरुपति से जुड़े इतिहास को लेकर अभी तक इतिहासकारों में मतभेद हैं क्योंकि यह साफ नहीं है कि 5वीं शताब्दी तक यह धार्मिक केंद्र के रूप में स्थापित हुआ था या नहीं। स्थानीय लोगों की मानें तो चोल, होयसल और विजयनगर के राजाओं का इस मंदिर के निर्माण में खास योगदान था। 9वीं शताब्दी में कांचीपुरम के पल्लव शासकों ने यहां पर अपना अधिकार कर लिया था और 15वीं शताब्दी के बाद से मंदिर विशेष रूप से प्रसिद्ध होने लगा।

श्री वेंकटेश्वर का पवित्र और प्राचीन मंदिर पर्वत की वेंकटाद्रि नामक 7वीं चोटी पर स्थित है, जो श्री स्वामी पुष्करणी नामक तालाब के किनारे है। इसी वजह से तिरूपति बालाजी को भगवान वेंकटेश्वर के नाम से जाना जाता है। भारत के सभी मंदिर में से तिरूपति बालाजी के मंदिर को सबसे अमीर माना जाता है। ऐसी मान्‍यता है कि तिरूपति बालाजी अपने भक्तों की सभी मुरादें पूरी करते हैं, जिसके बाद भक्त यहां आकर अपने बाल दान करते हैं।

कई रहस्यों से परिपूर्ण है तिरूपति बालाजी का मंदिर

हम यहां तिरुपति बालाजी के कुछ ऐसे ही रहस्यों के विषय में बात करेंगे जिससे आप जानकर हेरान परेशान हो जाएंगे। यहां के सारे रहस्य का जवाब वैज्ञानिकों के पास भी नहीं है ,आइए शुरू करते हैं।

मूर्ति से आती है समुद्री लहरों की आवाज
स्थानीय लोगों के अनुसार, भगवान की मूर्ति पर कान लगाकर सुनने पर समुद्र की लहरों की ध्‍वनि सुनाई देती है। शायद इसी वजह से मंदिर में स्थापित मूर्ति हमेशा नम रहती है।

मंदिर में छड़ी की अनोखी कहानी
तिरुपति बालाजी मंदिर के मुख्य द्वार के दरवाजे के दायीं तरफ एक छड़ी रखी हुई है। इस छड़ी के बारे में यह कहा जाता है कि बाल्‍यावस्‍था में इस छड़ी से ही भगवान तिरूपति बालाजी की पिटाई की गई थी, जिस वजह से उनकी ठुड्डी पर चोट लग गई थी। इसी कारणवश तब से लेकर आज तक उनकी ठुड्डी पर हर शुक्रवार को चंदन का लेप लगाया जाता है ताकि घाव भर सके। अब यह प्रथा बन गई है।

Balaji - Tirupati
Balaji – Tirupati

भगवान की मूर्ति है रहस्यमयी
कहते हैं मंदिर में स्थापित तिरूपति बालाजी की दिव्य काली मूर्ति किसी ने बनाई नहीं बल्कि वह जमीन से प्रकट हुई है। वेंकटाचल पर्वत को भी भगवान का रूप माना जाता है, जहां भक्त नंगे पैर ही आते हैं। इतना ही नहीं, मंदिर में भगवान वेंकटेश्‍वर की मूर्ति पर लगे बाल असली हैं, जो कभी उलझते नहीं हैं। मान्‍यता है कि ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि यहां भगवान वेंकटेश्‍वर खुद ही विराजते हैं।

भगवान की मूर्ति को आता है पसीना
यह सच है कि भगवान तिरूपति बालाजी की प्रतिमा एक विशेष प्रकार के चिकने पत्‍थर से बनी हुई है, मगर यह पूरी तरह से जीवंत लगती है। बता दें कि भगवान के पूरे मंदिर के वातावरण को काफी ठंडा रखा जाता है। उसके बावजूद मान्‍यता है कि बालाजी को बहुत गर्मी लगती है, जिस वजह से उनके शरीर पर पसीने की बूंदें आसानी से देखी जा सकती हैं और उनकी पीठ भी नम रहती है।

अनोखे तरीके से होता है भगवान का श्रृंगार
तिरूपति बालाजी का श्रृंगार बेहद ही अनोखे तरीके से किया जाता है। दरअसल, भगवान की प्रतिमा को प्रतिदिन नीचे धोती और ऊपर साड़ी से सजाया जाता है। मान्‍यता है कि बालाजी में ही माता लक्ष्‍मी का रूप समाहित है इसलिए ऐसा श्रृंगार किया जाता है।

सदैव जलता है यह दीया
भगवान बालाजी के मंदिर में एक दीया सदैव जलता रहता है। इस दीए में न ही कभी तेल डाला जाता है और न ही कभी घी। कोई नहीं जानता कि वर्षों से जल रहे इस दीपक को कब और किसने जलाया था?

तिरूपति बालाजी की मूर्ति में ही समाहित हैं मां लक्ष्मी
तिरूपति बालाजी, भगवान विष्णु के ही रूप हैं, इसलिए भगवान बालाजी के हृदय पर मां लक्ष्मी विराजमान रहती हैं। मां लक्ष्मी की मौजूदगी का पता तब चलता है जब हर गुरुवार को बालाजी का पूरा श्रृंगार उतारकर उन्हें स्नान करावाकर चंदन का लेप लगाया जाता है। जब चंदन लेप हटाया जाता है तब उनके हृदय पर लगे चंदन में देवी लक्ष्मी की छवि उभर आती है।

भगवान को चढ़ाई गई तुलसी को फेंका जाता है कुएं में
भगवान विष्णु को तुलसी के पत्ते विशेष प्रिय हैं, इसलिए इनकी पूजा में तुलसी के पत्ते का बहुत महत्व है। इतना ही नहीं, सभी मंदिरों में भी भगवान को चढ़ाई गयीं तुलसी की पत्तियां बाद में प्रसाद के रूप में भक्तों को दी जाती हैं। तिरूपति बालाजी में भी भगवान को रोज तुलसी की पत्तियां चढ़ाई जाती हैं, लेकिन उसे भक्तों को प्रसाद के रूप में नहीं दी जाती बल्कि मंदिर परिसर के कुंए में डाल दी जाती है।

मंदिर में रोजाना बनाए जाते हैं तीन लाख लड्डू
स्थानीय लोगों द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक, तिरुपति बालाजी मंदिर में रोजाना देसी घी के तीन लाख लड्डू बनाए जाते हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इन लड्डूओं के बनाने के लिए यहां के कारीगर 300 साल पुरानी पारंपरिक विधि का प्रयोग करते हैं। बता दें कि इन लड्डूओं को तिरूपति बालाजी मंदिर की गुप्त रसोई में बनाया जाता है। इस गुप्त रसोईघर को लोग पोटू के नाम से जानते हैं।

मंदिर से कुछ किमी दूर स्थित गांव है बेहद विशेष
भगवान तिरूपति बालाजी के मंदिर से 23 किमी दूर एक गांव है, जहां बाहरी व्‍यक्तियों का प्रवेश वर्जित है। बता दें कि यहां पर लोग बहुत ही नियम और संयम के साथ रहते हैं। मान्‍यता है कि बालाजी को चढ़ाने के लिए फल, फूल, दूध, दही और घी आदि सभी सामग्रियां यहीं पर बनती हैं और यहां से आती हैं। इसके अलावा, इस गांव में महिलाएं सिले हुए कपड़े धारण नहीं करती हैं।

मूर्ति मध्‍य में या दाईं ओर
जब आप भगवान बालाजी के गर्भ ग्रह में जाकर देखेंगे तो पाएंगे कि मूर्ति गर्भ गृह के मध्‍य में स्थित है। वहीं जब गर्भ गृह से बाहर आकर देखेंगे तो लगेगा कि मूर्ति दाईं ओर स्थित है।

पचाई कपूर
भगवान बालाजी की प्रतिमा पर खास तरह का पचाई कपूर लगाया जाता है। वैज्ञानिक मत है कि इसे किसी भी पत्‍थर पर लगाया जाता है तो वह कुछ समय के बाद ही चटक जाता है। लेकिन भगवान की प्रतिमा पर कोई असर नहीं होता।

 

सब्सक्राइब करें
सब्सक्राइब करें
यदि आप रामायण, महाभारत, गीता, वेद तथा पुराण की कथाओं को नियमित रूप से पढ़ना चाहते हैं तो हमारे सदस्य बने। आप सिर्फ नीचे दिए हुए बॉक्‍स में अपना ई-मेल आईडी टाइप करके सबमिट कर दे। यह एकदम मुफ्त है।
आप कभी भी अपना नाम हटा सकते हैं।

टिप्पणियाँ बंद हैं।